EMAIL

Call Now

0522-4957800

ब्लॉग

जनसंवाद कार्यक्रम में निकाली जनता ने भड़ास
27    |    Views : 000355

जनसंवाद कार्यक्रम में निकाली जनता ने भड़ास

LUCKNOW. राजधानी लखनऊ के थाना मड़ियांव क्षेत्र के नौबस्ता खुर्द स्थित रामलीला मैदान में जन समस्याओं को लेकर यूनाइट फाउण्डेशन ने जन संवाद का कार्यक्रम किया। इस कार्यक्रम में जन समस्याओं को सुनने के लिए फैजुल्लागंज-4 के पार्षद प्रदीप कुमार शुक्ला, फैजुल्लागंज से पार्षद पति राम किशोर, फैजुल्लागंज-२ जगलाल यादव, फैजुल्लागंज-3 से अमित मौर्या, नगर निगम से सेनेटरी एवं फ़ूड इंस्पेक्टर रूपेन्द्र भास्कर, मड़ियांव कोतवाली प्रभारी अमरनाथ वर्मा मौजूद रहे। 

यह भी पढ़ेः-ब्लाइंड बच्चों ने धूमधाम से मनाया गणतंत्र दिवस

नही सुधरी क्षेत्र की हालत

जन संवाद कार्यक्रम के दौरान अधिवक्ता अनुराग त्रिवेदी ने कहा कि  इस क्षेत्र में 1995 से लेकर 2017 तक विकास नहीं दिखा। पार्षद बनते रहे विधायक बनते रहे। नया पुरवा इलाके का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सड़कें टूटी हैं। पूर्व के पार्षदों को क्षेत्र की जनता ने न तो चुनाव में देखा और न चुनाव के बाद। फैजुल्लागंज इलाके में हालात बद से बदतर हैं। यह वही क्षेत्र है जहां 2016 में डेंगू से कई मौतें हुई थीं। इस पर फैजुल्लागंज द्वितीय  पार्षद जगलाल यादव ने कहा कि हमारे क्षेत्र में नाले की समस्या है। हम उसे बनवाना है। साथ ही दाउदनगर, नया पुरवा, कसलोक इलाका है जहां सड़कें नहीं बनी हैं उन्हें बनवाना है।

क्षेत्र की सुरक्षा चुनौती है

क्षेत्र में होने वाले अपराध के बारे में एसओ मड़ियांव अमरनाथ वर्मा ने कहा कि थाना क्षेत्र में 61 गावों और शहरी इलाके आते है ऐसे में 58 सिपाही से सुरक्षा देना काफी चुनौतीपूर्ण कार्य है। स्थानीय लोगों की मदद मिले तो अपराध पर लगाम लगाई जा सकती उन्होंने तमाम समस्याएं गिनाई। अपनी चुनौतियों को बताते हुए कहा कि आज कल लोग अपनी जिम्मेदारियां भी पुलिस के सहारे छोड़ देते हैं।

यह भी पढ़ेः-कारोबारी ने की अनूठी पहल से गौशालाओं को मिलेगी मदद

छोटे छोटे समाधान खुद निकालें

बैदेही फाउंडेशन की अध्यक्षा डा. रूबी राज सिन्हा ने कहा कि अपने छोटे छोटे समाधान खुद निकालें। हमें जागरूक रहने की आवश्यकता है। आज हम अपने घर की सफाई करके कूड़ा कचड़ा दूसरे के घर के बाहर फेंक देते हैं। अगर हम ऐसा करेंगे तो कैसे शहर साफ हो सकेगा। इसलिए हम सभी के प्रयास से ही सब कुछ संभव है। 

यह भी पढ़ेः-बे आबरू होने से बचाने के लिये बढ़ाया हाथ

पुलिस अपनी शैली में परिवर्तन करे

ऊषा विश्वकर्मा रेड ब्रिगेड अध्यक्षा ने कहा कि महिला स​शक्तिकरण की ओर ध्यान दिलाते हुए उन्होंने कहा कि पुलिस को अपनी शैली में परिवर्तन करने की जरूरत है। महिलाओं के साथ जब भी कोई घटना होती है और वह पुलिस थाने जाती है तो उससे ही सवाल जवाब किए जाते हैं। पुलिस थाने जाते वक्त वह खुद भयभीत हो जाती है|

पुलिस चौकी जरूरी

लखनऊ सराफा एसोसिएशन के संरक्षक डॉक्टर राम प्रसाद सोनी ने कहा कि यहां चौकी अगर बन जाएगी तो हम लोगों की सुरक्षा संभव हो पाएगी। मड़ियांव से रामलीला मैदान तक एक भी शौचालय नहीं है। इस कारण सभी को समस्याएं हो रही हैं। यहां पर एक भी इंटर कॉलेज नहीं है। अगर वह हो जाएगा तो हमारी बहनें भी शिक्षित हो पाएंगी। 

यह भी पढ़ेः-महिला कैदियों के बच्चों को बांटी गयी कपड़े व स्टेशनरी

यह रही समस्या

जन संवाद के दौरान जो समस्याएं प्रमुख रही उसमें खराब हैंडपंप, अस्पताल और स्कूल की समस्या, पुलिस चौकी का न होना, सड़कों और नालियों की बदहाली और महिला सुरक्षा मुख्य थी।

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website