EMAIL

info@unitefoundation.in

Call Now

+91-7-376-376-376

ब्लॉग

यूपी में बाढ़ से हालात गंभीर, 69 लोगों की मौत, 24 जिलों के 20 लाख लोग प्रभावित
21

यूपी में बाढ़ से हालात गंभीर, 69 लोगों की मौत, 24 जिलों के 20 लाख लोग प्रभावित

उत्तर प्रदेश में बाढ़ की वजह से जन जीवन पूरी तरह से अस्त व्यस्त हो गया हैं और हालात बद से बदतर होते जा रहे है। सीएम योगी आदित्यनाथ बाढ़ग्रस्त इलाकों का लगातार दौरा कर रहे हैं। राज्य आपदा प्रबंधन विभाग के अनुसार, 19 अगस्त 2017 तक 69 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 20 लाख लोग प्रभावित हैं। वहीं, 3679.91 लाख की फसल बर्बाद हो गई है। 

आंकड़ों के अनुसार, अब तक यूपी के 24 जिले बाढ़ से प्रभावित हैं। इन 24 जिलों में बहराइच, गोंडा, बलरामपुर, गोरखपुर, श्रावस्ती, सिद्धार्थनगर, महाराजगंज, बिजनौर के हालात सबसे ज्यादा खराब हैं। बहराइच में लगभग 4 लाख 35 हजार की आबादी प्रभावित है, जबकि बाराबंकी में 5 लाख 87 हजार की आबादी, गोंडा में 1 लाख की आबादी, गोरखपुर में 1 लाख 60 हजार, जबकि श्रावस्ती में 2 लाख 10 हजार, महाराजगंज में 1 लाख 18 हजार और बलरामपुर में 4 लाख 68 हजार से ज्यादा लोग प्रभावित हैं।

बाढ़ में मौत का सिलसिला नहीं रुक रहा है। अब तक बलरामपुर जिले में सबसे ज्यादा 15 मौत हुई हैं, जबकि बहराइच में 12 मौत हुई हैं। वहीं, लखीमपुर खीरी में 2 मौत, बाराबंकी में 9, गोंडा में 3, मिर्जापुर में 5, जबकि बिजनौर में 2, महाराजगंज में 8, सिद्धार्थनगर में 5, श्रावस्ती में 3 मौत हुई हैं, जबकि बलरामपुर से 1 व्यक्ति लापता है।

40 हजार लोगों का आशियाना छिना

यूपी में बाढ़ के हालात यह हैं कि अब तक 40 हजार लोगों का आशियाना छिन चूका है। ये लोग राहत शिविर में अपने दिन काट रहे हैं। इनमें वे लोग शामिल हैं जिनका पूरा का पूरा गांव बाढ़ में समा गया है। जबकि 85352 लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया जा चूका है। वहीं, 227 राहत शिविर संचालित किए जा रहे हैं।
-बाढ़ की गंभीरता को देखते हुए सरकार ने अब तक 679 बाढ़ चौकियां स्थापित की हैं। बाढ़ से लोगों को बचने के लिए 3013 नाव लगाई गई हैं। 131 मोटर बोट लगाई गई है, जबकि 134 गाड़ियां बचाव कार्य में लगी हुई हैं। वहीं, एनडीआरएफ की 20 टीमें बचाव कार्य में लगी हुई हैं, जबकि पीएसी की फ्लड बटालियन की 29 टीम लगी हुई है।

ढाई लाख लीटर से ज्यादा पीने का पानी बांटा गया

बाढ़ पीड़ितों में अब तक ढाई लाख लीटर से ज्यादा पीने का पानी बांटा गया है। इसी तरह आटा, चावल, गुड, दाल, नमक, आलू और माचिस मोमबत्ती बांटी गई हैं।

 

Save the Children India, Best NGO to Support Child Rights, Best NGO in Lucknow, Skills Development NGO, Health NGO Lucknow, Education NGO Lucknow, NGO for Women Empowerment, NGO in India, Non Governmental Organisations, Non Profit Organisations, Best NGO in India

 


All Comments

Leave a Comment

विशिष्ट वक्तव्य 

विशिष्ट महानुभावों के वशिष्ट अवसरों पर राय

Facebook
Follow us on Twitter
Recommend us on Google Plus
Visit To Website
Visit To Website